Spread the love

Target : लक्ष्य कैसे बनाए?

हम सबको मालूम है कि हमरा कोई ना कोई लक्ष्य(Target) होना

चाहिए। लक्ष्य के बिना जीवन व्यर्थ है। लक्ष्य होना प्रत्येक व्यक्ति के लिए

जरूरी है। प्रकृति में निरन्तर परिवर्तन होता रहता है।आपके अंदर भी

परिवर्तन होना आवश्यक है। ईश्वर ने आपको अनेक प्रकार की प्रतिभा दे

के भेजा है ये आपको तय करना है कि आपका लक्ष्य क्या है। अपना

लक्ष्य उधर ही बनाए जिस क्षेत्र में आपकी रुचि ज्यादा हो। अपने लक्ष्य

को बनाने के लिए अपनी ईच्छा में समय सीमा डालनी चाहिए कि उस

समय तक हम अपना कार्य पूर्ण कर लें। “अपनी जुनून को कभी मरने

मत देना” बिना कर्म के लक्ष्य खोखले की तरह होता है। लक्ष्य को नहीं

हासिल कर पाते इसका मतलब असफल होना नहीं है। आप अपने लक्ष्य

को पाने के लिए दुबारा योजना बनाएँ। अपने लक्ष्य को डायरी में

लिखकर रखना चाहिए और उसे प्रतिदिन पढ़ना चाहिए और विचार

करना चाहिए। तभी आप जीवन में अपने लक्ष्य को प्राप्त कर सकते हैं।

आपके चारों तरफ आपका लक्ष्य ही दिखेगा तो आप जल्द से जल्द

अपनी लक्ष्य को पूरा कर सकते हैं। जीवन में एक ही लक्ष्य बनाए कई

लक्ष्य बनाने से आप किसी भी लक्ष्य को हासिल नहीं कर पाएंगे।

अपनी नजर लक्ष्य (Target) पर बनाएँ रखें


जीवन के इस चलते हुए पथ पर अपनी आँखों को लक्ष्य पर जमाएं रखें।

आपकी समझदारी मंजिल तक पहुंचने में मदद करेगी , बशर्ते आपको

अपनी मंजिल का पता हो। अगर अपने मकसद पर ध्यान नहीं लगाएंगे,

तो अपने लक्ष्य को कभी हासिल नहीं कर पाएँगे। जीवन में अगर कुछ

कर दिखाना है और आकाश की वह सीमा छुनी है जिसके बारे में आप

कभी सोच भी नहीं सकते हैं तो अपने लक्ष्य की चाह को हमेशा जगाए

रखें। यह भी महत्व रखता है कि आप किस दिशा में जा रहे हैं। आपकी

दिशा सही है तो आप जीवन में कुछ न कुछ तो हासिल कर ही लेंगे।

पैसा कमाने के चक्कर में हम अपने दायित्वों को नजरअंदाज करने

लगते हैं। चाहे कुछ भी हो जाए अपने लक्ष्य से भटकना नहीं चाहिए।

जब आप कुछ अच्छा करने की सोचते हैं तो रूकावटे बहुत आती हैं

लेकिन आपको प्रत्येक रुकावटों का सामना डट के करना चाहिए। जिस

सपने को पूरा करने के लिए आपको ख़ुशी होने लगे या थोड़ा दुःख का

सामना करना पड़े तो समझ लीजियेगा आप अपने लक्ष्य के तरफ अपनी

कदम बढ़ा दिए हैं।हमारा लक्ष्य हमारे दिल और दिमाग से जुड़ा होता है।

अपने लक्ष्यों को जाँचना – परखना


जीतने वाले हमेशा अपने लक्ष्यों को देखते हैं और हारने वाले रुकावटों

को देखते हैं। अपना लक्ष्य इतना बड़ा रखिए कि वो आपको प्रेरणा दे

सके और कुछ नया सीखा सके। हम जो कुछ भी करते हैं या तो वो हमें

लक्ष्य के करीब ले जाती है, या उससे दूर ले जाती है। छोटे लक्ष्य बनाने से

अच्छा कुछ बड़ा करने की सोचिए। आपका हौसला मजबूत है तो एक

दिन आपको सफलता जरूर मिलेगी। अपने मन में ठान लीजिए चाहे

कुछ भी हो जाए मुझे अपने लक्ष्य को पूरा करना ही है। घबराना नहीं

चाहिए हो सकता है इस बीच आपको परेशानियों का सामना करना पड़े।

Anjali singh Rajput
Anjali singh Rajput

2 thought on “Target : कोई लक्ष्य आपकी साहस से बड़ा नहीं होता?”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *