Spread the love

Personality Development का अर्थ है व्यक्ति का शारिरीक आकर्षण। व्यक्ति जैसा दिखता है या दूसरो की नजर में जैसा आता है उस समय उसकी जो छवी बनती है वही उसकी पर्सनैलिटी होती है।

Personality सिर्फ शारिरीक गुणों से नहीं बल्कि विचारों और

व्यवहार से भी मिल कर बनती है। जो समाज में हमें अच्छी इज्ज़त

दिलाता है। कोई भी व्यक्ति जन्मजात अच्छी पर्सनालिटी ले कर पैदा

नही होता है बल्कि सफल होने के लिए अपने अंदर के गुणों को

विकसित करना पड़ता है।

अपने व्यक्तित्व को निखारने के लिए पहली आवश्यकता

है सही अवधारणा, क्योंकि आप वही देखते हैं जो आप देखना चाहते है।


“We see the things through our mind not through our eyes”


अपने साथियों से बेहतर बनने के बजाय कोशिश ये करनी चाहिए कि

खुद से बेहतर बनें। तनाव और डर ये दो मुख्य कारण है जो हमारी

पर्सनालिटी को पूरी तरह से निखरने नहीं देती।

अपने अन्दर के डर को पहचानना और उससे मुक्त होने का प्रयास करना

अत्यंत आवश्यक है। सबसे बडा डर जो किसी भी व्यक्ति के मन में होता

है वह है फेल होने का डर। जिसे बार-बार प्रयास करके ही खत्म किया

जा सकता है।


Positive attitude, Self confidence, Self motivational और अच्छी Body language का इस्तेमाल कर के अपनी पर्सनालिटी को निखारा जा सकता है।

अपने अंदर से नकारात्मक और हीन भावनाओं को दूर करना जरुरी है।

ऐसा बिल्कुल भी नहीं है कि अगर आप शारिरीक रुप से आकर्षक नहीं

है तो आप की Personality अच्छी नहीं है। अच्छी Personality

तब बनती है जब व्यक्ति अपने नकारात्मक विचारों पर विजय पा लेता है

और खुद पर भरोसा करता है।

शारिरीक रुप से सुंदर होना या विद्वान होना व्यक्ति का सिर्फ एक

पहलू है बल्कि अच्छी पर्सनालिटी के लिए जरुरी है ज्ञान का सही

उपयोग करना।

जब तक आप अपनी सम्स्याओं एवं कठिनाइयों की वजह दूसरों को

मानते हैं तब तक आप अपनी सम्स्याओं एवं कठिनाइयों को दूर नहीं

कर सकते हैं, और पर्सनालिटी डेवलपमेंट के लिए जरुरी है कि आप

अपनी कमियां खुद खोजें और उनमें सुधार लाएं।

7 thought on “Personality बताता है कि दूसरों के साथ आप किस तरह का व्यवहार करते हैं?”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *